सोमवार, सितंबर 29, 2008

दो लाशें चली ९ कोस एक रात में

मानो या न मानो सच है दो लाशें उस जगह से चली गई ९ लोस दूर जहाँ उनका कत्ल हुआ । यह कोई भूतिया कहानी नहीं ,कोई राम गोपाल वर्मा की पिक्चर का सीन नहीं ,यह एक बाजीगिरी थी थाना पुलिस की ।

बरेली के आवला थाने के अंतर्गत यह लोमहर्षक कृत्य स्थानीय पुलिस द्वारा किया गया । दो रिश्तेदार जो आपस में फूफा -भतीजे थे उनकी गोली मार कर हत्या कर दी गई और लाशें एक बाग में डाल दी गई । सुबह सेकडों लोगो ने लासों को देखा । लेकिन पुलिस ने उस दिन कोई कार्यवाही नहीं की । रात होते ही थाना पुलिस ने लाशों को उठवा कर सीमावर्ती जिले बदायु के थाना वजीरगंज के खेत में डलवा दिया ।

जाच के बाद लोगो की चर्चा के माध्यम से यह बात खुली । थाना आवला के सब इंस्पेक्टर को निलंबित कर दिया गया ।

प्रश्न यह है लाशों की बेकद्री का जुम्मेदार कौन है ,यह पहली बार नहीं हुआ है । ऐसा होता ही रहता है अपने थाने का क्राइम कंट्रोल करने के लिए लाशों और भुक्तभोगी पीडितों को थाने थाने घूमना पड़ता है ।

2 टिप्‍पणियां:

  1. "oh god, ager police ke yhee karnamey hain to fir inssaf khan se aayega, bhut hee sharmnak"

    Regards

    उत्तर देंहटाएं
  2. आप हिन्दी की सेवा कर रहे हैं, इसके लिए साधुवाद। हिन्दुस्तानी एकेडेमी से जुड़कर हिन्दी के उन्नयन में अपना सक्रिय सहयोग करें।

    ~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
    सर्व मंगल मांगल्ये शिवे सर्वार्थसाधिके।
    शरण्ये त्रयम्बके गौरि नारायणी नमोस्तुते॥


    शारदीय नवरात्र में माँ दुर्गा की कृपा से आपकी सभी मनोकामनाएं पूर्ण हों। हार्दिक शुभकामना!
    (हिन्दुस्तानी एकेडेमी)
    ~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

    उत्तर देंहटाएं

आप बताये क्या मैने ठीक लिखा