शुक्रवार, सितंबर 12, 2008

आओ बच्चन -ठाकरे वाला खेल खेले

आओ एक नया खेल खेले
एक का नाम बच्चन ,एक टीम का नाम ठाकरे रख ले
खेल बहुत मजेदार है
करना सिर्फ़ एक दूसरे का प्रचार है
एक दूसरे को यह है करना
बिना बात के ऐसा माहोल पैदा करना
कि दुनिया समझे आपस में लडाई है
फ्री में हो प्रचार अपना
सिर्फ़ इस खेल में यही एक भलाई है ।

5 टिप्‍पणियां:

  1. आपने एकदम टू द पोइण्ट लिखा है . मान गए गुरु .

    उत्तर देंहटाएं
  2. bhaut badi very good bat hai gi . Ram ke sath ristha jodane ke liya dhanyvad. swayam sevak to nahi ho?

    उत्तर देंहटाएं
  3. सटीक काव्यात्यम व्यंग !!



    -- शास्त्री जे सी फिलिप

    -- समय पर प्रोत्साहन मिले तो मिट्टी का घरोंदा भी आसमान छू सकता है. कृपया रोज कम से कम 10 हिन्दी चिट्ठों पर टिप्पणी कर उनको प्रोत्साहित करें!! (सारथी: http://www.Sarathi.info)

    उत्तर देंहटाएं

आप बताये क्या मैने ठीक लिखा