शुक्रवार, सितंबर 05, 2008

शिक्षक दिवस

आज एक अखबार मैं कार्टून देखा ,हम शिक्षक दिवस क्यों मनाते है ?उत्तर था सर ,मेम को गिफ्ट देने के लिए । कितना सही था वो कार्टून एकदम खरा । मेरी बेटी भी परेशान थी गिफ्ट ले जाने के लिए और वह ले कर भी गई । आज सुबह से ही फूल वाले अपनी दुकाने खोले बैठे थे ,और शिष्य व शिषाये अपने गुरुओ को इम्प्रेस करने के लिए बुके खरीद रहे थे ।

यह डॉ सर्वपल्ली राधा कृष्णन कौन थे और आज उनका जनम हुआ था ,अच्छा वो सेकेंड प्रेजिडेंट थे अपने देश के ,टीचेर भी थे ऐसे जबाब मिलेंगे अगर पूंछे तो आप । क्या होगा हमारी आगे आने वाली नस्लों का - आज बच्चे हिन्दी,इंग्लिश ,मथ्स,फिजिक्स ,केमेस्ट्री ,बायो,जी के ,कम्पुटर और बहुत से तो मुझे याद नही बोह सब पढ़ते है लेकिन अपना देश ,अपने पूर्बज ,अपनी संस्कीरती के बारे मैं न बो पढ़ते थे है न हम पढाते है क्योंकि उस से पर्सन्टेज पर फरक नही होता । आज हर काम फायदे के लिए करना सिखाया जाता है चाहे बोह पढाई हो या दुनिआदारी ...........

1 टिप्पणी:

  1. शिक्षण एक गरिमायुक्त कार्य है, पर अब उस में गरिमा नहीं रही, बस गिफ्ट रह गई है.

    उत्तर देंहटाएं

आप बताये क्या मैने ठीक लिखा