शनिवार, सितंबर 20, 2008

आतंक पर अभिनय बंद हो .

क्या कोई कानून आतंक पर रोक लगा सकता है ? बिलकुल वैसा ही प्रश्न क्या कोई तलवार स्वयं किसी पर वार कर सकती है ? उत्तर सिर्फ एक नहीं बिलकुल नहीं ।

क्यों जब कोई आतंकी वारदात होती उसी समय इस तरह के बेहूदी चर्चा होने लगती है । विरोध के लिए सिर्फ विरोध कहाँ तक ठीक है । पोटा लागू हुआ किस पर लगा, रघुराज सिंह और वाइको पर । क्या हुआ ,कुछ नहीं सिर्फ राजनीति केवल राजनीति ।

आतंक सिर्फ एक हथियार से कम हो सकता है वह है 'इक्छाशक्ति' । अगर राजनीति से थोडा ऊपर उठ कर सोचे तो यही एक हथियार है जिससे आतंक का अंत किया जा सकता है ।

आतंकवादी के प्रति नरमी सिर्फ इसलिए की वह अल्पसंख्यक हो सकता है यह ठीक नहीं ,और हिंदुस्तान में सब आतंकी मुसलमान हो यह भी सच नहीं । माओवादी ,नक्सलवादी ,जो पूर्वोत्तर से दखिन तक जो फैले है वह मुसलमान नहीं है यह सत्य है ।

आतंक को धर्म के चश्मे से न देखा जाये तो हिंदुस्तान की सेहत के लिए ठीक रहेगा । आतंकी सिर्फ आतंकी होता है ,उसकी गोली हिन्दू या मुसलमान का सीना नहीं देखती गोली जिस सीने पर लगती है अपना काम कर देती है। आतंक को महिमामंडित न करे ।

सब हिन्दुस्तानी मिल कर सोचे ,एक स्पष्ट नजरिया रखे तब ही इस दानव से पार पा सकेंगे । सब अपनी जिमेदारी महसूस करे ,चाहे वह नेता हो ,मीडिया हो ,आम आदमी हो ।

बहुत हो चुका अभिनय बंद हो , आरोप -प्रत्यारोप बंद हो ,तथाक्तित मानवाधिकार के हिमायतियों पर रोक लगे, हो सके तो कुछ ठोस कदम उठे जिससे कुछ तो शांति मिले । आतंक के खिलाफ जेहाद या कहो धर्म युद्ध शुरू होना चाहिए ।

3 टिप्‍पणियां:

  1. सही लिखा है आपने |
    आतंक को मिटाने के लिए किसी कानून की नही इच्छा शक्ति की जरुरत है

    उत्तर देंहटाएं
  2. बिल्कुल सही कहा!!


    वर्ड वेरिपिकेशन हटा लें तो टिप्पणी करने में सुविधा होगी. बस एक निवेदन है.


    डेश बोर्ड से सेटिंग में जायें फिर सेटिंग से कमेंट में और सबसे नीचे- शो वर्ड वेरीफिकेशन में ’नहीं’ चुन लें, बस!!!

    उत्तर देंहटाएं

आप बताये क्या मैने ठीक लिखा