बुधवार, दिसंबर 24, 2008

कार्टून की भविष्यवाणी सही हुई -नेता हुए बदनाम

कुछ साल पहले जनसत्ता मे एक कार्टून छपा था कि नेताजी जा रहे है और एक बदमाश उनकी जेब मे बैठा है आगे बड़कर वही बदमाश नेताजी के साए मे पीछे चल रहा है उससे आगे वह नेताजी के बराबर मे चल रहा है उससे आगे अब बदमाश आगे है और नेताजी उसके साए मे है और आख़िर मे बदमाश की जेब मे नेताजी बैठे है । दस पद्रह साल पहले का यह कार्टून आज हकीक़त बन गया है । टिकट जब से बिकने लगे बदमाश या कहे माफिया खरीदने लगे और खरीद भी कौन सकता है, [गेहू बेचकर तो टिकट खरीदा नही जाता और इलेक्शन लड़ा नही जाता ] टिकट खरीदा समीकरण या कहे बिरादरी के वोट मिले पैसा फेके वोट खरीदे औए बन गए ऍम.पी .,ऍम.एल.ऐ ।

इसका दुष्परिणाम यह हुआ नेता पद बदनाम हो गया राजनीती अपनी अस्मिता खो गई । और हम लोग अपने आप ही लुट गए । और यह हमारे नए भाग्यविधाता सिर्फ़ एक काम जानते है पैसा बनाना और अय्याशी करना अगर आप दिमाग पर जोर दे तो कई ऐसे नाम आपको याद आ जायेंगे उसमे कुछ लोग तो जेलों की शोभा बड़ा रहे है । और हमारे यह नेता सदनों मे निशब्द रहते है । यानी जो काम के लिए चुने गए उसके आलावा वह सब काम करते है ।

ऐसे ही यशस्वी नेता ने कल एक सरकारी अधिकारी को पीट पीट कर मार डाला क्योकि उस बेचारे ने उनकी नेता के प्रक्टोयौत्स्व पर चंदा नही दिया । यह है कारनामे हमारे अपने बनाये गए अपने भाग्यविधाता के । इनसब कुक्र्त्य मे ऐसा नही की कोई एक राजनितिक दल शामिल है सब एक ही थैली के चट्टे बट्टे है कोई किसी से कम नही

15 टिप्‍पणियां:

  1. सब एक ही थैली के चट्टे बट्टे है कोई किसी से कम नही ......

    उत्तर देंहटाएं
  2. नेता और बदमाश दोनों एक दुसरे के पूरक है कभी बदमाश नेता की जेब में तो कभी नेता बदमाश की जेब में ! राजनीती में यही खेल चलता रहता है !

    उत्तर देंहटाएं
  3. सवेरा होने के पहले अंधेरा गहराता है।

    उत्तर देंहटाएं
  4. आ. ज्ञानजी के शब्द मे ही अच्छे भविष्य के प्रति आशा का संचार हो रहा है .

    उत्तर देंहटाएं
  5. jee haan aur ye surat badalne wali bhi nahi dikhti| ghupp andhera hai.

    उत्तर देंहटाएं
  6. पहले चुनाव जीतने के लिये बाहूबलियों का सहारा लिया जाता था। जब उन्होंने देखा कि सब हमारी बदौलत नेता बन कर राज करते हैं तो हम ही क्यूं नहीं। बस उसी दिन से दोनो के बीच का फासला मिट गया।

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहोत ही बढ़िया ब्यंग कसा आपने धीरू भाई ढेरो बधाई स्वीकारें...


    अर्श

    उत्तर देंहटाएं
  8. कभी समाज सेवी और सच्चरित्र व्यक्ति ही नेता कहलाते थे परंतु आज नेता की परिभाषा बदल गई है। अब जिसके पास जितना बाहुबल और धनबल है, वह उताना बडा नेता कहलाता है।

    उत्तर देंहटाएं
  9. अभी देखते जाये, यही जनता इन नेताओ को पीटे गी ओर वो भी नंगा कर के....
    धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  10. माहौल ही ऐसा हो गया है . भला आदमी तो राजनीति में टिक ही नहीं सकता . या तो राजनीति से आउट होना पडेगा या फिर दुनियाँ से .

    उत्तर देंहटाएं
  11. एक इंजीयर की हत्या का वहिशयाना तौर-तरीका और फिर उसको मरी हुई हालत में थाने पर छोड़ आना यह स्वतः सिद्ध करता है कि शासन-प्रशासन नेताओं की रखैल बन चुकी है। इसीको लोकतंत्र कहते हैं ?

    उत्तर देंहटाएं
  12. प्रभु! अजब तेरा खेल, अजब तेरी 'माया'
    आज 'माया-भक्त' को ही जेल पहुंचाया!!
    वाह प्रभु!!

    उत्तर देंहटाएं
  13. Sirph netaon ko dosh nahin de sakte.Wo usi samaj ki paidaish hain jahan se hum bhi aate hain.Hum sab ko atmmanthan karne ki jarurat hai.

    उत्तर देंहटाएं
  14. बुरी बात है जी आप देश के चुने हुये गुंडो माफ़ कीजीयेगा नेताओ को ऐसे नही कह सकते ..
    और फ़िर नई पार्टी है मायावती जी की अभी उसे काग्रेसियो की तरह माल वसूलना नही आता धीरे धीरे सीख जायेगे की आदमी को मारो पर इस तरह मत मारो की मर जाये . वर्ना पैसा किससे वसूलेगे ? थोडा सब्र कीजीये मायावती जी उन्हे ट्रेनिंग दे रही है खुद भी ट्रेंड हो रही है कि मुलायम जी की तरह काग्रेस जी की तरह पैसा उगाये इस तरह से नही . आपने देखा नही अब मायावती जी भी खुद बहुत नम्र स्वभाव की हो गई है. पार्टी भी सुधर जायेगी . बाकियो को कह दिया है कि इतना मारपीट ना करे कि बंदा मर जाये उन्हे खुद बहुत दुख है कि अगला ना मरता तो पचास नही पच्चीस लाख तो देता ही ना

    उत्तर देंहटाएं
  15. "निसार मैं तेरी गलियों के ऐ वतन कि जहाँ
    चली है रस्म कि कोई न सर उठा के चले" फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ की ये पंक्तियाँ मानों एकदम साकार हो गईं है उत्तर प्रदेश में!

    उत्तर देंहटाएं

आप बताये क्या मैने ठीक लिखा