गुरुवार, दिसंबर 04, 2008

हिन्दू आतंकवादी नहीं हो सकता

एक फ्रेंच सम्पादक का कहना है हिन्दू आतंकवादी हो ही नहीं सकता । फ्रंकोइस गवातिय्र 'ला रेवूय डी लदे' के सम्पादक है जो पेरिस से प्रकाशित होता है । उनका लिखना है भारत मे एक अरब हिन्दू रहते है यानी दुनिया का है छटा आदमी हिन्दू है तथा सर्वाधिक उदार है ।

भारत की अस्मिता व अस्तित्व हिन्दू धर्म पर टिका है । यह देश हिंदुत्व के आध्यात्मक पर आधारित है । आप भारत के लाखो गावों मे जाए तथा एक औसत भारतीय से मिले तो आप पाएंगे कि वे सीधे ,सरल तथा धार्मिक विचारो के होते है । वे भारत के बहुल वाद व उदारवाद मे विश्वास करते है । चाहे आप ईसाई हो या मुस्लिम हो या कोई और सबके प्रति उदारता है यहाँ किसी से दूरत्व का भाव देखने मे नहीं आता ।

हिन्दू धर्म की इस उदारता का परिणाम भारतीय मुस्लिम और ईसाई मे भी दीखता है वे लोग भी अन्य ईसाईयों और मुस्लिमों से भिन्न है । पिछले ३५०० वर्षो के इतिहास मे हिन्दुओं ने कभी किसी देश पर हमला नहीं किया है ,और न ही ताकत के बल पर किसी पर अपने धर्म को लादने का प्रयास नहीं किया है । आप दुनिया मे किसी हिन्दू को कट्टरपंथी नहीं पाएंगे ।

एक बात जो मुझे कहनी है यह लेख पढ़ कर हिन्दू धर्म नहीं है । वेदों ,पुराणों, रामयण, गीता मे कही भी हिन्दू शब्द का प्रयोग नहीं हुआ है । हिन्दू हिन्दुस्तान की राष्ट्रीयता है । हिन्दुस्तान मे रहने वाला हर व्यक्ति हिन्दू है । अरबी भाषा मे स शबद का उचारण न होने के कारण सिन्धु को हिन्दू कहा जाने लगा क्योकि सिंध के आगे रहने वाले सब हिन्दू कहलाने लगे ।

मुझे लगता है हमारी परम्परा , हमारी उदारता हमारी कमजोरी बन गई है ,हमारी दयाशीलता को कायरता समझ लिय गया है । हमें पीड़ित और शोषित मान लिय गया है । समय है हम जागे और अपनी हस्ती को बचाए । क्योकि रोम मिट गया मेसो पोटामिया मिट गया

कुछ बात है की हस्ती मिटती नहीं हमारी

10 टिप्‍पणियां:

  1. aapka lekh bahot hi prabhavshali hai bahot khub likha hai aapne...

    उत्तर देंहटाएं
  2. सही है धीरु भाई,
    लेकिन ये बात अगर किसी गैर हिंदू के सामने कहेंगे तो असहमति तुरंत सुनने को मिल जायेगी. लोगों को हिंदू का सही अर्थ समझ नहीं आया आज तक.

    लिखते रहिये .. शुभकामनायें
    फ़्रस्ट्रू

    उत्तर देंहटाएं
  3. बात सही कही है आप ने जर्मन मै रहने वाला हर नागरिक जर्मन कहलाता है, पाकिस्तान मै रहने वाला हर नागरिक पकिस्तानी कहलाता है, तो हिन्दुस्तान मे रहने वाला हर नागरिक ?????
    धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  4. एक फ्रेंच सम्पादक समझ सकता है हिन्दू आतंकवादी हो ही नहीं सकता | लेकिन हमारे छद्म धर्मनिरपेक्ष नेता ये बात पता नही कब समझेंगे ? या फ़िर समझना ही नही चाहते |

    उत्तर देंहटाएं
  5. सही लिखा आपने लेकिन कथित धर्मनिरपेक्ष लोगो को शायद ये बात हजम ना हो।

    उत्तर देंहटाएं
  6. lekin moorkh aur dharmaandh hinduon ko ye baat hajam ho gayee.

    उत्तर देंहटाएं
  7. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  8. हिंदुस्तान मे धर्म हैं
    मुस्लिम , सिख , ईसाई
    और हिंदू ?

    धर्मं नहीं हैं "हिंदू"
    हिंदुस्तान मे
    हिंदू यानि
    हिंदुस्तान की सभ्यता और संस्कृति
    हिंदू यानि सर्वधर्म समन्वयता
    हिंदू यानी सर्वधर्म सहिष्णुता

    पाकिस्तान मे हिंदू यानी एक धर्म
    इटली मे हिंदू यानी एक धर्म
    लन्दन मे हिंदू यानी एक धर्म

    पर हिंदुस्तान मे हिंदू
    यानी
    एक जीवन शैली
    एक आस्था
    एक विश्वास

    उत्तर देंहटाएं
  9. हिन्दु कोई धर्म नहीं . एक जीवन जीने का तरीका है .स्वामी विवेकनन्द ने एक किताब है "हिन्दु धरम " , ईस सम्बन्ध मे ये पड्ने लायक है .
    इसको इस तरह देखने से कुछ नहीं होगा . हमको ये देखने कि जरुरत है कि मुल क्या है ?

    देखे मेरा भी ब्लाग

    http://unicodehindi.blogspot.com

    या

    www.ucohindi.co.nr
    पर

    उत्तर देंहटाएं
  10. मुझे इस बात से कुछ लेना देना नहीं कि मेरा धर्म क्या है और न ही इस बात से मतलब कि मेरे आसपास कौन से लोग रहते हैं. मुझे तो सिर्फ़ अपने हिन्दुस्तानी होने पर ही इतना फख्र है.

    उत्तर देंहटाएं

आप बताये क्या मैने ठीक लिखा