गुरुवार, सितंबर 09, 2010

आप कौन से नम्बर के भारतीय हो ?

 बच गये बाल बाल बच गये . आज इस बात की खुशी है की २ नम्बर का होना कितना फ़ायदेमंद है . मुझे गर्व है मै २ नम्बर का हिन्दुस्तानी हूं. क्योकि हर तीसरा हिन्दुस्तानी भ्रष्ट है . ऐसा मानने वाले सी बी सी मि.सिन्हा क्या कहना चाहते है पता नही .लेकिन इतनी लम्बी और महत्वपूर्ण पद से रिटाइर सिन्हा साहब आज तक यह नही जान पाये हिन्दुस्तान  कहां है .

भारत में ८० % जनता गांव मे रहती है . गांव मे रहने वाले मेहनत मजदूरी करने वाले भूख से लडकर मरने वाले कब से भ्रष्ट की श्रेणी मे आ गये . हां सिन्हा साहब जहा रहते है और जहा उन्होने नौकरी की है वहा जरुर हर व्यक्ति भ्रष्ट है . वहां ना कोई एक नम्बर वाला ईमानदार है ना दो नम्बर वाला और ना ही तीन नम्बर वाला . पता नही तीसरा कह कर किसे बचाना चाहते है सिन्हा साहब .  
दिल्ली मे एक दो तीन नम्बर पर है राष्ट्रपति ,प्रधानमंत्री,और सोनिया गान्धी . और सी वी सी के अनुसार हर तीन मे से एक भ्रष्ट है . इन तीनो मे से कौन वह यह बताये . खैर जो है सो है .

एक सवाल आप सब से आप कौन से  नम्बर के भारतीय हो ?

14 टिप्‍पणियां:

  1. भाई साहब , आप गलत ले रहे है बात को , मैं यह नहीं कहता कि सिन्हा साहब दूध के धुले है जो ऐसा कह रहे है मगर उन्होंने ये कहा कि ३ में से एक भारतीय यानी कि १२० करोड़ में से ४० करोड़ , जो मेरे हिसाब से उन्होंने कम ही बताया है ! आप खुद ही अपने इर्दगिर्द देख लीजिये !

    उत्तर देंहटाएं
  2. एक दो तीन .... चार पांच छः ... सात आठ नौ.... गिन गिन :)

    उत्तर देंहटाएं
  3. जी एकदम पक्का जवाब दे रहा हूँ .....३ नंबर के है जी !!

    उत्तर देंहटाएं
  4. मुझे भी आँकड़ा ठीक लगता है .... ग़रीब आदमी भ्रष्ट नही होते ये कोई पक्की बात नही है ....

    उत्तर देंहटाएं
  5. राष्ट्रपति ,प्रधानमंत्री,और सोनिया गान्धी .अब पहले तो इन मै से हिन्दुस्तानी ढुढे कि कोन है, फ़िर बेइमान ओर भ्रष्ट ढुढे....अजी हम तो जीरो है.

    उत्तर देंहटाएं
  6. शहर के अनेकों लोग अकेले अपने गांव जा भी नहीं सकते हैं क्योंकि जिन भ्रष्ट लोगों ने उन्हें ज़मीन से बेदखल किया है वे ही उन्हें दुनिया से भी बेदखल कर देंगे। भ्रष्टाचार हमारे अन्दर गहराई से भरी है। कितने दुकानदार ईमानदारी से विक्रय कर चुकाते हैं? कितने अरबपति अपनी आमदनी को अन्न का एक दाना भी न उगाने वाले फार्म्हाउस की खेती बताकर आयकर सफाचट्ट कर जाते हैं? कितने भारतीय घर/दुकान/ज़मीन खरीदते/बेचते समय सही कीमत पर रजिस्ट्री कराते हैं? कितने आटो/टैक्सी वाले मीटर सही रखकर बिना पूछे, सवारी जहाँ चाहे वहाँ लेकर जाते हैं? कितने सरकारी डॉक्टर आने वाले हर मरीज़ की हर दवा, शल्यक्रिया आदि नियमानुसार करते हैं? कितनी शादियाँ दहेज़ मांगे/दिये बिना हंसते हुए सम्पन्न होती हैं? कितने पुलिसिये पैसे देकर सामान खरीदते हैं?

    देश की हालत साफ बताती कि हम भ्रष्टाचार में काफी गहराई तक डूबे हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  7. चलिये हम भी बच गये। दूसरे नम्बर के हैं हम भी।

    उत्तर देंहटाएं
  8. ये जितने भी लालफ़ीताधारी है जब नौकरी में रहते हैं तो इनकी आँखों पर गांधार की पट्टी बंधी होती है। कुछ नहीं देखना चाहते। जब रिटायर हो जाते हैं तो इन्हे सब दिखाई देने लगता है।सेवा में रहते हुए इन्होने अपने विभाग के कितने भ्रष्टाचारियों को पकड़ कर सजा दी? कितने गरीबों और बिना पहुंच पकड़ के लोगों का भला किया। कुछ इस पर भी प्रकाश डालें।
    फ़जुल अब अरण्यरोदन कर रहे हैं,इन्हे अब दो नम्बर और तीन नम्बर दिखाई दे रहा है।

    उत्तर देंहटाएं
  9. हम तो ललित जी की बात से सहमत हैं। वैसे देखा जाए तो हर आदमी ही भ्रष्‍ट है और हर आदमी ही ईमानदार। जब स्‍वयं का काम पड़ता है तब जैसे तैसे ले-देकर काम निकलवाना चाहते हैं और जब दूसरा करता है तब वह गलत करता है।

    उत्तर देंहटाएं
  10. Har teesra aadmi bhrast hai bharat mei,
    Samaj iss se trast hain bharat mei,
    phir bhi pehle do mast hain bharat mei,
    Kaun maane zero diya bharat ne,
    Taaro kee bhaasha sikhayi bharat ne,
    Har teesra aadmi bhrast hai bharat mei,

    उत्तर देंहटाएं

  11. बेहतरीन पोस्ट लेखन के बधाई !

    आशा है कि अपने सार्थक लेखन से,आप इसी तरह, ब्लाग जगत को समृद्ध करेंगे।

    आपकी पोस्ट की चर्चा ब्लाग4वार्ता पर है-पधारें

    उत्तर देंहटाएं
  12. पहला व्यक्ति वह है जो खाता है, दूसरा वह जो खिलाता है । तीसरा वह जिसे खाने या खिलाने का अवसर ही नहीं मिला । इस तरह तीसरा आदमी ईमानदार है और पहले दोनों भ्रष्ट ।

    उत्तर देंहटाएं

आप बताये क्या मैने ठीक लिखा