गुरुवार, फ़रवरी 18, 2010

मिल गया उपहार छप्पर फाड़ के

.
.
.
फागुन जैसे उपहारों का मौसम हो गया . जगह जगह सम्मान बटने लगे फलाना फलाना ...... अपनी किस्मत में तो सम्मान का योग बनता नहीं दिखता लेकिन उपहार तो छप्पर फाड़ के मिल ही सकते है . जो आज ही मिल गया मुझे .

कई दिनों से अपने पिताजी से एक वाहन की मांग सरका दी थी . और जिद की हद तक मांग को पेश किया . एक कार बढिया सी ,अपने आकार के कारण कारे छोटी सी महसूस होने लगी . इसलिए कुछ बड़ी कार की दरकार थी इसलिए कुछ माडल छाटे गए एस यु वी सपने में आने जाने लगी . इस्कर्पियो ,सफारी ,इन्डिवर जैसी कारे लुभाने लगी . बहुत मशक्कत के बाद बात कुछ बनती दिखी . आज वह घडी आ गई और एक नयी टाटा सफारी पिताजी की तरफ से उपहार स्वरुप प्राप्त हो गयी .

खैर आनंद ले रहे नयी सफारी का फागुन में , धन्यवाद शब्द बहुत छोटा लग रहा है उपहार के लिए . कभी कभी लगता है लायक बाप के यहाँ पैदा होने के कितने फायदे है .

11 टिप्‍पणियां:

  1. धीरू सिंह बहुत बधाई, लेकिन लायक बेटे भी बनाना तभी मजा है जिन्दगी का, हम भी कभी बेठे के आप की इस कार मै वादा है

    उत्तर देंहटाएं
  2. बढ़िया ऐश है यार..बहुत बधाई. चलो, अब आयें तो आपकी सफारी में घूमा जायेगा. :)

    उत्तर देंहटाएं
  3. भाटिया जी और समीर जी के साथ मैं भी हूं. बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  4. लेपटोप के बाद अब कार.. वाह जी वाह..

    जय हो... पिताजी की...

    उत्तर देंहटाएं
  5. हम आ रहे है.. घूमने का प्लान बना लीजिए..

    उत्तर देंहटाएं
  6. .... बहुत खूब ...हो जायेगी बल्ले-बल्ले ...बल्ले-बल्ले !!!

    उत्तर देंहटाएं
  7. धीरू भैया, बधाई हो..
    नया लैपटाप, नई गाडी
    वैसे जयललिता जी की पसंदीदा गाडी भी यही टाटा सफ़ारी ही है, खूब जमोगे। पुन: बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  8. मौज है धीरू जी ... सफारी का आनंद लीजिए ... बहुत बधाई ...

    उत्तर देंहटाएं
  9. बड़े खुशनसीब हैं आप हमने तो अपनी पहली साइकिल भी अपनी मेहनत की कमाई से खरीदी थी ।

    उत्तर देंहटाएं

आप बताये क्या मैने ठीक लिखा