शनिवार, जनवरी 09, 2010

गोरी या काली हो या नखरेवाली हो कैसा भी चक्कर चला दे राहुल बाबा की शादी करा दे - प्राथमिकता २०१० मिशन २०१०

खिच खिच चक चक बक बक........................ खामोश . बहुत हुआ सबको अपनी अपनी पड़ी है दूसरो के लिए सोचने का समय ही नहीं है . उनके लिए भी नहीं जो रात दिन हमारे बारे में सोचते रहते है . सब अपनी अपनी गाडी  धकेल रहे है मतलबी कहीं के .

अरे मेरे गुस्से की वजह नहीं जानना चाहेंगे जायज है मेरा गुस्सा , मेरा गुस्सा है सब पर.......... क्यों ? अब बता ही देता हूँ मै आक्रोशित हूँ सब पर क्योकि हम राहुल बाबा .......... राहुल गाँधी के बारे में सोचते ही नहीं वह गाँव गाँव जा कर घर घर घूम रहे है अब जवान सभ्रांत लड़का अपने मुहं  से तो नहीं कहेगा मेरी शादी करा दो . हमारी नैतिक जिम्मेदारी बनती है राहुल बाबा की शादी कराने की . माता जी तो देश चलाने में व्यस्त है मनमोहन जी तो कार्य वाहक से ही है . ऐसे में बेटे की चिंता नहीं कर पा रही है .

और हम अहसानफरामोश लोग भी भुलाए हुए है अपने मुस्तकबिल को . अगर राहुल बाबा ने शादी नहीं की तो देश को ३० साल बाद कौन चलाएगा  आखिर रेहान बडेरा से ही उम्मीद ही बचेगी . इसलिए आज सौगंध खाए की  देश हित में राहुल बाबा की  शादी देश की पहले प्राथमिकता  होनी चाहिए . कांग्रेसियों के चक्कर में रहे तो हो गई शादी ........

तो आप सब से विनती है गोरी या काली हो या नखरेवाली हो कैसा भी चक्कर चला दे राहुल बाबा की शादी करा दे . देश की प्राथमिकता २०१० मिशन २०१० सिर्फ और सिर्फ राहुल बाबा की शादी ...............और कुछ नहीं

9 टिप्‍पणियां:

  1. बिलकुल सही कहा आपने....

    बहुत सार्थक पोस्ट...

    आभार......

    उत्तर देंहटाएं
  2. क्यों धीरू भाई,

    राहुल का हंसना-खेलना आपको अच्छा नहीं लग रहा क्या...क्यों अच्छे भले इंसान को अपने-हमारी तरह दार्शनिक बनाने के लिए भिड़े है...अब जो भगवान ने हमारे साथ किया है, उसका बदला दूसरों से कोई लिया जाता है...

    जय हिंद...

    उत्तर देंहटाएं
  3. कहो तो काम वाली माई से बात करे, बहुत मेहनती है, अपना कमा कर खाती है, इमान दार है, सरकारी धन को उस ने आज तक नही छुआ, हेरा फ़ेरी , झुठ, फ़रेब ओर वादा खिलाफ़ी से दुर, अगर यह गुण इस् मै है तो जल्द बताओ... बात आगे बढाये

    उत्तर देंहटाएं
  4. नखरेवाली? नखरे कैसे झेलेंगे राहुल जी?

    उत्तर देंहटाएं
  5. अजी रेहान में क्या बुराई है? वह भी तो आपके मुरादाबाद-बरेली का ही कहलाएगा ना?

    उत्तर देंहटाएं
  6. आपने तो बहुत दूर की सोची है धीरू जी ........... ये तो हम सोच भी नही पाए ......... ३० साल बाद देश का साशण कौन करेगा ...... भाई अब तो कॉंग्रेसियों को सोचना बढ़ेगा ..........

    उत्तर देंहटाएं
  7. राज भाटिया जी, इतने गुण हैं तब तो वह खुद ही राहुल बाबा से शादी करने से इंकार कर देगी… राहुल बाबा अभी इन्तज़ार कर रहे हैं कि कब कोलम्बिया से हरी झण्डी मिलती है… :)

    उत्तर देंहटाएं
  8. हम सोचे हो चुकी है। घोषणा में औपचारिकता है। जुआनिटा की बात सुनी थी।

    उत्तर देंहटाएं
  9. हो गई है तो सामने लाये मूह दिखोनी जो करनी है

    उत्तर देंहटाएं

आप बताये क्या मैने ठीक लिखा