बुधवार, नवंबर 04, 2009

चचा अंग्रेजो के शुक्रगुजार क्योकि अंग्रेजो ने मुसलमानों से हिन्दुस्तान की कमान ले कर हिन्दुओ को सौंप दी

हमारे ऊपर राज करने वालो में अंग्रेजो  की मानसिक गुलामी आज भी हम कर रहे है . राष्ट्रकुल खेल इसी का तो प्रमाण है .राष्ट्रकुल यानी अंग्रेजो के गुलाम देशो का समूह . जो आज भी अपने को धन्य मानते है की अंग्रेजो ने हम पर उपकार किया हमें दुनिआवी तहजीव सिखाई . तरक्की के रस्ते दिखाए .

ऐसे ही एक हमारे चचा है इंग्लेंड रिटर्न . अगर आज अंग्रेज राज कर रहे होते तो निश्चित ही उनेह राय बहादुर या राय साहेब से नवाजते . उनकी आस्था आज भी अंग्रेजो के  प्रति अगाध है . उनका यह पागल पन कभी कभी निरुत्तर कर देता है वकौल उनके हमें अंग्रेजो का शुक्रगुजार होना चाहिए . क्यों ? पूछने पर उनका रिकार्ड चालु हो जाता है .

चचा पूछते  है और याद भी दिलाते है अंग्रेज जब भारत में आये तो किस्से उन्होंने राज छीना . कुछ बोलने से पहले ही बोल उठे बादशाह बहादुर शाह जफ़र से . यानी यानि  क्या तुम तो ऐसे गाली देते हो जैसे अंग्रेजो ने प्रथ्वी राज चौहान से राज छीना . मतलब क्या मतलब यह की अंग्रेजो ने मुसलमानों से हिन्दुस्तान की कमान ले कर हिन्दुओ को सौंप दी .नहीं तो जजिया देते देते अब तक हिन्दुओ का नामोनिशान मिट जाता .

अब इस चचा का क्या करू एक नयी बहस को जन्म दे दिया चचा ने . चलिए इस बहस पर भी तलवार भाँज ले .

11 टिप्‍पणियां:

  1. औरंगजेब के ज़माने में तो बहुतों ने जजिया दिया, बहादुर शाह ज़फर के ज़माने में जजिया देने वाले अकेले चच्चा ही रहे होंगे.

    उत्तर देंहटाएं
  2. जबरदस्त!
    वैसे अगर मुझे गुलामी चुननी हो तो मुगलिया की बजाय फिरंगी चुनूंगा!

    उत्तर देंहटाएं
  3. पिंजरा चाहे सोने का हो, चाँदी का या फिर सींकों का- होता पिंजरा ही है. गुलामी किसी की भी मंजूर नहीं. आज जो राज कर रहे हैं वे भी अंगरेज से कम हैं क्या? और जहाँ तक बात हिन्दू होने की है तो उसका भी कोई पता नहीं. दादा (फिरोज) मुसलमान, माँ इसाई, दादी के पिता पंडित(???).

    उत्तर देंहटाएं
  4. भूत में क्या हुआ चचा जाने दो आज जागो कोई हिन्दू को जजिया के लिए मजबूर न कर पाए !
    ज्ञानदत्त पाण्डेय जी आप उस सोच से बाहर आओ और विश्वास पैदा करो की अब जो हमें गुलाम बनाने आयेगा उसे सदियों तक हम अपना गुलाम बनायेंगे चाहे जो भी आये !!!

    उत्तर देंहटाएं
  5. आपकी बात में भी दम है धीरू जी ........... नया दृष्टिकोण देती है आपकी पोस्ट ........

    उत्तर देंहटाएं
  6. बुरा न मानना चच्चा गुलाम तो हम अभी भी हैं, काले अँगरेज़ और नेता नबावों के. वैसे बड़े बुजुर्ग बताया करते हैं की अंग्रेजों का ज़माना आज से लाख गुना बेहतर था. न बिजली जाती थी, न रिश्वत थी, न लेटलतीफी थी, न ट्रेन लेट होती थीं, न कोई कानून तोड़ कर यूँ ही बच सकता था. इमरजेंसी के दिन भी बाप दादा कुछ ऐसे ही सुहाने बताते हैं.

    हम गुलाम तब थे या अब?

    वैसे तो अपने भारत में आजादी के सपने देखता हूँ. पर नाउम्मीदी की स्थिति में मैं भी आज की गुलामी और मुगलिया गुलामी के बजाय अंग्रेजों की 'गुलामी' पसंद करूँगा.

    उत्तर देंहटाएं
  7. क्या बात कर रहे हैं गुलामी तो गुलामी है, और १८५७ के बाद अंग्रेजों ने जो कहर ढाये हैं उसे आपके चाचाजी ने तो न झेले होंगे । अपनों का कहर भी अच्छा है गैरों के मिठाई से ।

    उत्तर देंहटाएं

आप बताये क्या मैने ठीक लिखा