मंगलवार, फ़रवरी 17, 2009

'sister i am not home sick '

एक कशमकश से जूझ रहा हूँ मैं या कहू मेरा परिवार । मेरी एक ही बेटी है जो लाड प्यार मे पल रही है दुनिया की तमाम ख्वाय्हिश पूरी की जाती रही है लेकिन लिमिट मे । उसकी नई जिद है बोर्डिंग स्कूल मे पढने की ,वह अभी क्लास सिक्स मे पढ़ रही है । वह अपने लिए स्कूल भी चुन चुकी है सैंट मेरीज नैनीताल ।

ना जाने कौन सी ताकत उसे प्रेरित कर रही है । अभी पिछले हफ्ते ही टेस्ट के लिए नैनीताल गए । वहां उसने टेस्ट पास किया और प्रिंसिपल ने जब इंटरव्यू लिया तो उसने कहा 'sister i am not home sick ' यह एक लाइन प्रिंसिपल सहित हम को चौका गई । खैर उसका एडमिशन हो गया हम भी मजबूर है अपने एकलौते बच्ची की लग्न देख कर । वहां जाने के लिए उसके आर्गुमेंट भी अकाट्य है कहती है अगर भगवान राम गुरु के आश्रम मे पढने नही जाते तो वह महान नही होते ।

इसे क्या कहे ? हां एक बात वह अभी से किसी नारीवादी से ज्यादा कट्टर सोच रखती है ।

हमने भी ना चाहते हुए हथियार डाल दिए है उसकी इच्छा को पूरा करने के लिए अपने लोगो के ताने कि एक ही बच्चा है और उसे भी दूर भेज रहे हो ,को झेलते हुए सीने पर पत्थर रख ही लिया है । आगे प्रभु इच्छा

16 टिप्‍पणियां:

  1. बिल्कुल जी, प्रभु इच्छा मान कर चलें।

    उत्तर देंहटाएं
  2. जब बिटिया स्वयं ऐसी कामना करती हो तो फ़िर उसकी बात मान लेने में ही हमें भलाई दिखती है.

    उत्तर देंहटाएं
  3. बजरंगबली सब ठीक ही करेंगे।

    उत्तर देंहटाएं
  4. जो होता है अच्छे के लिए ही होता है !

    उत्तर देंहटाएं
  5. थोडे़ दिनों में नये दोस्त बनेगें.. ओर enjoy करने लगेगी.. आप ्निश्चिंत रहे..

    उत्तर देंहटाएं
  6. बच्चे जल्दी एडजस्ट कर लेते हैं| चिंता न करें|

    उत्तर देंहटाएं
  7. धीरू भाई, हिम्मत रखे, मुझे पता है मां बाप उदास हो जाते है, लेकिन जब बच्ची जिद कर रही है तो...चिंता न करें|

    उत्तर देंहटाएं
  8. dheeru bhai jab aapki bitiyaa ki adamy ichchha hi bording school me padne ki hai or aapke kahne ke mutaabik wo deserve bhi karti hai to use avashy wahaan bhajiye jahaan uski ichchha hai .aisi achchhi soch rakhne waale bachche birle hi hote hain ise hi to kahte hai ki poot ke paanv paalne me hi chamak jaate hai ishwar kare aapki bitiyaa sarvochchtaa ko prapt kare
    aashirvaad sahit ,

    उत्तर देंहटाएं
  9. आपने स्वयम कहा की " ना जाने कौन सी ताकत उसे प्रेरित कर रही है".... तो इश्वर की इच्छा मान कर सब्र कीजिये. आपकी बिटिया द्रढ़ निश्चयी है जरुर अपने जीवन में कामयाब होगी..... हमारी शुभकामनाये"

    Regards

    उत्तर देंहटाएं
  10. धीरू भाई आप को तो खुशी से नाचना चाहिए जो बिटिया इतनी समझदारी की बात कर रही है और इस कच्ची उम्र में ही ज़िन्दगी की लडाई अकेले लड़ने का हौसला रखती है....मेरा नमन है उसके हौसले को...आप बिल्कुल चिंता ना करें...ये विलक्षण प्रतिभा की बिटिया एक दिन आप का नाम रोशन करेगी...आप चाहें तो ये बात स्टांप पेपर पर लिखने को तैयार हूँ...

    लोगों की बातें न सुनें...क्यूँ की लोगों का काम है कहना...

    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  11. मै आपके मानसिक द्वन्द को अच्छी तरह से समझ सकता हू क्यों कि मै भी एक ही बच्ची का पिता हू और मेरी बच्ची भी कक्षा ६ मे पढती है ।

    उत्तर देंहटाएं
  12. क्या कहे ?आपकी मनो स्थिति को समझ सकते है ....

    उत्तर देंहटाएं
  13. चिंता की कोई बात नही धीरू जी.......
    इतनी लगन अगर बच्ची में है तो वो जरूर काम्याग होगी, आप धीरज रखें

    उत्तर देंहटाएं
  14. Aapki beti ki pratibha ek din jarur rahg layegi
    ...bas aap samay samay pr hosla afjayi karte rahen...!!

    उत्तर देंहटाएं
  15. your daughter is very intelligent since she preferred boarding school where she can learn the importance of family and especially education . my best wishes are with her.
    -- akshay raj singh

    उत्तर देंहटाएं

आप बताये क्या मैने ठीक लिखा