गुरुवार, फ़रवरी 05, 2009

विषय की खोज

आज मैं शिकार पर निकला हूँ पूरी तैय्यारी के साथ कागज कलम ले कर पूरी मुस्तैदी से । आज मुझे तलाश है एक अच्छे विषय की जो सच मे अच्छा हो लोगो के समझ मे आए ।

सड़क पर अट्टालिकाये लुभा रही है महलनुमा मकान आकर्षित कर रहा है उस पर लिखू कैसे सेठ की कार पहली मंजिल पर पहुच जाती है

या कल तक पंचर जोड़ने वाला आज का करोड़पति विधायक सांसद बनने के लिए अभी से लाखो रुपया बहा रहा है

या कल पुलिस को देख कार भागने वाला आज पुलिस के गनर के सुरक्षा मे अपनी पेजरो मे बैठ सायरन बजाता जा रहा हो ।

या दो अधनंगे बच्चे कूडे के ढेर मे कुछ तलाश रहे है हर पन्नी को अपने कब्जे की होड़ मे हाथापाई की नौबत तक तेजी दिखा रहे है एक बचा हुआ बिस्कुट के पैकेट को देख कर उनके चेहरे पर आई मुस्कान पर

विषय की खोज अभी तक पूरी नही हो पाई है आतंक ,पब ,गाँधी ,कल्याण मुलायम ,पहेलिओं के बीच अपने खोने के डर से मे भाग रहा हूँ विषय की खोज मे लेकिन गरीबी ,भूख ,सूखा, अकाल को विषय बनाना नही चाहता क्योंकि जब जब यह विषय बना तब तब पढ़ा नही गया और जब पढ़ा नही गया तब क्रान्ति का कारण बना ।

11 टिप्‍पणियां:

  1. धीरू जी
    न likhte huve भी bahoot कुछ लिख दिया, शायद यही एक अच्छे लेखक की pahchan है.
    bahoot peni कलम से लिखा acha vyang

    उत्तर देंहटाएं
  2. धीरू सिंह जी बिना विषय चुने ही बहुत कुछ कह दिया आपने |अपने आस पास इस तरह आगे बढे लोगो की सारणी बनाये तो काफी लम्बी बन जायेगी |

    उत्तर देंहटाएं
  3. क्या इस तरह से ब्यंग कसी जाती है मुझे तो पता ही नही था,मान गए आपको बहोत ही बढ़िया लिखा आपने ब्यंग कसना तो कोई आपसे सीखे .. ढेरो बधाई आपको साहब... अब तबियत कैसी है आपकी..????


    आपका
    अर्श

    उत्तर देंहटाएं
  4. सडक पर निकले हो तो सडक पर ही लिख मारो:) आखिर बेचारी सडक- जिसे लाखॊं पैर कुचलते हैं, करोडों पहिए रोलते निकलते है न जाने कितने जानवर लीद छोडते भागते हैं.....भई विषय और भूमिका तो मिल गई.. अब आगे जानें....

    उत्तर देंहटाएं
  5. कैसे लिखूं....कहते कहते सारा लिख ही डाला....अच्‍छा लगा पढकर।

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत अच्छे विषय पर लिखा आपने भाई| बहुत बढ़िया|

    उत्तर देंहटाएं
  7. 'विषय की खोज वो भी जो अधूरी रह गयी....ख़ुद ही एक विषय बन गयी...वाह..."

    Regards

    उत्तर देंहटाएं
  8. इसे कहते हैं लिखना और विषय्। शानदार्।

    उत्तर देंहटाएं
  9. आपने तो गागर मे सागर वाली बात कर दी । चार लाइनो मे जहान भर कि बाते कह दी । अच्छा लगा पढ कर ।

    उत्तर देंहटाएं
  10. आप भी विषय की तंगी के दौर से गुजर रहे हैं। हम तो अक्सर गुजरते हैं इस दौर से।

    उत्तर देंहटाएं

आप बताये क्या मैने ठीक लिखा