सोमवार, मई 03, 2010

आखिर चूहे ने नितीश कुमार की ऊंगली ही क्यों काटी

इसे कहते है सशक्त विरोध . नितीश कुमार बहुत दिनों से चूहा व्यंजन को महत्ता दे रहे थे . चूहा बर्गर ,चूहा सैंडविच और ना जाने क्या क्या . इससे चूहों में आक्रोश था और इसके विरोध के लिए चूहा संघ ने अपने क्रांतिकारियों को नियुक्त किया . उसका परिणाम यह हुआ नितीश कुमार की ऊँगली काट कर सांकेतिक रक्त सहित विरोध का प्रदर्शन किया . काटा कही भी जा सकता था . फिर भी चूहों ने मर्यादा में रहते हुए कार्य किया . और आगाह किया है अभी तो ली अंगडाई है आगे बहुत लड़ाई है .


चूहों  की जीवटता को देखकर एक हलचल सी मची है चारो तरफ यही हल्ला है ऊँगली ही क्यों ...............
.
.
.
आखिर यही प्रश्न आपको भी उद्धेलित कर रहा होगा . ऊंगली ही क्यों ...........
.
.
.
बहुत खोजने पर चूहों के प्रतिनिधि से बात हुई उत्तर मिला ऊंगली इसलिए क्योकि ब्लोगर के प्राण ऊंगली में ही बसते है और ब्लोगर सब काम ऊंगली से ही करते है और  नितीश कुमार नए नए ब्लोगर है ऊंगली की आदत है उन्हें इसलिए ऊंगली काट कर विरोध किया गया . 


सावधान ब्लोगर  ..................................



10 टिप्‍पणियां:

  1. :), मुझे तो चिंता यह हो रही है कि हमारी सुरक्षा एजेंसिया धीरे-धीरे हमारे नेताओ की सुरक्षा के प्रति कितनी लापरवाह हो रही है ! :)

    उत्तर देंहटाएं
  2. धन्यवाद। आपने हमे सचेत किया।:))

    उत्तर देंहटाएं
  3. वैसे अन्दर की खबर यह है कि वही चूहा अपनी उंगली काफी पहले कुतर चुका है.

    उत्तर देंहटाएं
  4. ब्लोगर के प्राण ऊंगली में ही बसते है

    हम अपनी उंगली बचाते हैं। आपने चेताया, धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  5. उंगली की माया .... अब तक करते थे बस .. अब झेलनी पड़ रही है .....

    उत्तर देंहटाएं
  6. आपकी सूचना गलत है . चूहा 'उंगली करना' सीखने गया था. नीतीश जी उसे लालू के पास भेज रहे थे . चूहा जाना नहीं चाह रहा था. वाद-विवाद में उंगली गलत दिशा में चली गयी और दांत लग गया.(यह बात पासवान जी ने बताई है)

    उत्तर देंहटाएं

आप बताये क्या मैने ठीक लिखा