शुक्रवार, मार्च 06, 2009

आईये प्रकृति के संग फागुन मनाये ।

फागुन का रंग अगर देखना है तो पत्थर के जंगलो से निकल कर प्रकृति की ओर चलेदेखे वहां किस तरह प्रकृति अपने आप श्रंगार कर रही है पेड़ पोधो का ,पुराने पत्ते पतझड़ मे गिर गए

नए नए हल्के हरे रंग की कपोले , इतना सुंदर द्रश्य नयनाभिराम ................ खेतो मे लहराते हरे गेहूं की वालिया हवा का झोका जब इनको को लहराता है तो अल्ल्हड़ बाला की मतवाली चाल याद जायेगी

पीली सरसों पक चुकी
प्रकृति की तुलिका जब अपने पूरे शबाब पर है तो फागुन को भी महसूस करेरास ,फागका माहोलआईये प्रकृति के संग फागुन मनाये

14 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत बढ़िया रचना
    होली पर्व की हार्दिक शुभकामना

    उत्तर देंहटाएं
  2. दिल्ली से कई बार कासना होते हुए सिकंदराबाद जाता हूँ तब करीब 10 km खेतों के बीच से होकर गुजरना होता है हरे भरे खेतों से गुजरना वाकई ताजगी ला देता है | और कुछ समय के लिए दिल्ली के प्रदूषण से निजात भी मिल जाती है |

    उत्तर देंहटाएं
  3. प्रकृति के रंग तो अनूठे होते ही हैं.........
    और जब इन के साथ होली के रंग भी मिल जाएँ तो मजा कुछ और ही होता है,
    आपको होली की बहुत बहुत सुभकामनाएँ

    उत्तर देंहटाएं
  4. सही कहा-असल रंग वही है फागुन का.

    उत्तर देंहटाएं
  5. कुछ भी लिख देना कविता तो नहीं , शब्द बंधन पाठक को बांधने में नाकाम रहा है । प्रयास जारी रखें । शुभ वर्तमान

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सही कहा ... होली की शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत खूब कहा है। यहाँ भी नजरें इनायत करें।
    पल भर

    उत्तर देंहटाएं
  8. अरे बहुत ही सुंदर लिखा आप ने मै गांव मै ही रहता हुं, ओर यह सब नाजारे हमेशा देखता हुं, लेकिन अभी हमारे यहा करीब दो महीने बाद ऎसा नजारा दिखेगा.
    सुंदर लेख के लिये धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  9. सच मे पलाश के लाल पेड़ों को देखते ही रहने की इच्छा होती है।

    उत्तर देंहटाएं
  10. फ्लाश के रंग दिल मोहते हैं ..सही कहा आपने सुन्दर होली मुबारक

    उत्तर देंहटाएं
  11. आपकी पोस्ट उकसा रही है कि इस शहर से बाहर निकलें और प्रकृति का अवलोकन करें।
    देखिये, क्या कर पाते हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  12. होली की बहोत मुबारकबाद ,आपने जिस तरह से लिखा है
    सच में दिल झुमने लगा ,एक वक्त के लिए तो
    खो ही गए थे
    बहोत खूब...ढेरो बधाई आपको...

    अर्श

    उत्तर देंहटाएं

आप बताये क्या मैने ठीक लिखा