मंगलवार, सितंबर 01, 2009

वह होनहार था

वह होनहार था . गरीबी में जैसे तैसे पढ़ रहा था उसकी मेहनत रंग लायी अच्छे नम्बरों से इंटर पास किया । आगे की पढाई की इच्छा इतनी प्रबल थी कि लगन देख मजदूर बाप एक जून खा कर भी अपने होनहार को कलक्टर बनाने को तैय्यार हो गया । बड़ी पढ़ाई के लिए शहर भेज दिया गया । एक सपना लिए वह शहर पहुँचा और कालेज में पढ़ाई शुरू की । नया माहौल कुछ रास नही आ रहा था शहरी आबोहवा माफिक भी नही थी ।

तभी एक मुलाक़ात ने उसमे विश्वास भर दिया । यह था रघु भाई एक छात्र नेता जो कमजोर छात्रों का मसीहा से कम नही । होनहार को उसने अपना छोटे भाई सा प्यार दिया और सहायता भी , अच्छे रहने खाने पहनने के लिए मिलने लगा । शिक्षको से भी स्नेह मिला अब पढ़ाई भी अच्छी होने लगी सब को लगता था लड़का नाम रोशन करेगा माँ बाप का ,कालेज का और रघु भैय्या का भी ।

पहले साल कालेज में सबसे ज्यादा नम्बरों से पास हुआ । एक उत्सव सा मना जहाँ होनहार अपने साथियों के साथ रहता था । लेकिन रघु भैय्या उदास थे न जाने क्योँ । सब उन से पूछने लगे तब भी भैय्या कुछ न बोले । होनहार दुखी हुआ उसने रघु से बात की तो उसने कहा की मैं अब ज्यादा दिन जिन्दा नही रह पाऊंगा क्योकि मेरे कुछ दुश्मन मुझे मारना चाहते है । अब तो मेरा मरना निश्चित है लेकिन तुम चिंता न करो अपनी पढ़ाई पर ध्यान दो ।

बड़े भाई पर परेशानी और छोटा पढाई करे यह कैसे हो सकता था । होनहार ने अपने भाई के लिए कुछ भी करने की कसम खायी और भाई से बचने का तरीका पूछा । भाई ने उसे मना किया लेकिन जिद के आगे हार गया और बताया अगर दुश्मन को कोई मार दे तो वह बच जाएगा । होनहार अपने रघु भैय्या को बचाने के लिए तैयार हुआ एक रिवाल्वर का इंतजाम हुआ और दुश्मन खत्म हो गया और भैय्या की जान बच गई ।

लेकिन होनहार पकड़ा गया और अब वह अपने सपनो के साथ जेल में है और उसके माँ बाप गरीबी के आलावा एक और गम झेल रहे है । और रघु भैय्या एक और होनहार की तलाश में है क्योकि सुपारी लेकर काम भी तो करवाना है ।

11 टिप्‍पणियां:

  1. कहते है ना कोई भी बिना मतलब आप की मदद नही करता... ऎसे होनहार बहुत से मिल जायेगे

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत ही अच्छा एंड, बहुत ही अच्छा क्लाइमैक्स। खूब।

    उत्तर देंहटाएं
  3. मशीहों का लबादा पहने ऐसे कई रघु भैया है इस देश में |
    जिनके चुंगल में कोई न कोई होनहार फंस ही जाता है |

    उत्तर देंहटाएं
  4. ऐसे दरिन्दे न जाने कितनी जिंदगियों से खेल रहे हैं - प्रभावी कहानी है.

    उत्तर देंहटाएं
  5. BAHOOT HI GAMBHEER BAAT IS GHATNA KE MAADHYAM SE KAHI HAI AAPNE ..... HAMAARE SAMAAJ MEIN NOJAWAANO KO KISI NA KISI TAREEKE SE ISTEMAL KIYAA JAATA HAI ... BHAVNAATMAK SHOSHAN KIYA JAATA HAI UNKA..... LAJAWAAB POST HAI AAPKI...

    उत्तर देंहटाएं
  6. अच्छा, ओसामा-बिन-लादेनियत सब जगह इफरात में है जो नौजवानों के इमोशंस के साथ खिलवाड़ करती है!

    उत्तर देंहटाएं
  7. ये क्या आसपास की कोई सच्ची घटना है।

    उत्तर देंहटाएं
  8. हमारे देश मे बहुत से नौजवानो की यही कहानी है -शरद कोकास

    उत्तर देंहटाएं

आप बताये क्या मैने ठीक लिखा