बुधवार, दिसंबर 29, 2010

धन्यवाद २०१० बहुत बहुत धन्यवाद

धन्यवाद २०१०  बहुत बहुत धन्यवाद . जो व्यक्तिगत मुझे दिया उसके लिए तो धन्यवाद शब्द छोटा पड़  ही  जाएगा . इस २०१० ने मुझे आदमी काम का बना दिया वरना निकम्मों में शुमारी थी मेरी . यहाँ तक एक बार मेरी बेटी ने भी मुझ से पूछा पापा आप करते क्या हो ?  इस साल ने मुझे इस सवाल का जबाब दे ही दिया .


खैर सब कुछ सही बीता है अब तक . लाखो करोड़ के घोटाले हुए हमें कोई फर्क नही पड़ा .एक बिल्डिंग ३० मंजिल ज्यादा बन गई हमें कोई फर्क नही पडा . रामजन्म भूमि का फैसला हुआ हमें कोई फर्क नही पड़ा .सचिन ने डबल सेंचुरी बनाई फर्क नही पडा . किसी का ब्यान आया कश्मीर भारत का हिस्सा कभी ना रहा हमें कोई फर्क नही पडा . राहुल गांधी ने हिंदुत्व आतंकवाद को लश्करे तैयबा से ज्यादा खतरनाक बताने से हमें फर्क नही पडा .ना जाने कितनी और गतिविधिया हुई जिसका फर्क हम पर नही पडा . 


फर्क तो पडा ओबामा का नाच देखकर . फर्क पडा सरकोजी को कार्ला ब्रूनी की उंगली पकडे देखते हुए . फर्क पडा अम्बानी की अट्टालिका देखकर . फर्क पडा शीला की जवानी और मुन्नी बदनाम देखकर . फर्क पडा विकीलीक्स के लीक देखकर


वैसे २०१० कुल मिला कर तुम बहुत अच्छे हो तुम्हारी यादे हमेशा ज़िंदा रहेगी .  जाते हुए आता २०११ मिले तो उससे कहना गनीमत रखना हमपर .
.
.
.
और एक बात २०१० तुम ब्लागवाणी अपने साथ ले गए . ब्लागरो को खेमे में बाट गए .खैर जब वह दिन ना रहे तो यह भी नही रहेंगे .
.

12 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत बढ़िया पोस्ट लगाई है आपने!
    धन्यवाद २०१० बहुत बहुत धन्यवाद!
    --
    9 जनवरी को आप खटीमा अवश्य आइए!

    उत्तर देंहटाएं
  2. 2010 भी शानदार था और 2011 भी दमदार हो, शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  3. जो अब तक बीता वो शानदार था और आने वाला कल भी शानदार व दमदार हो यही शुभकामनाएँ है |

    उत्तर देंहटाएं
  4. निकम्मों से काम वालों में शुमारी हो गई आप की, बधाई।

    भविष्य के लिये भी शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  5. जो बीत गाया वह दमदार था जो आएगा वह उस से भी दमदार हो यह ही हमारी मनोकामना है| शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  6. नूतन वर्ष की हार्दिक शुभ-कामनाओं के साथ........

    उत्तर देंहटाएं
  7. गत वर्ष का सुंदर विश्लेषण किया है धीरु भाई

    आगामी वर्ष की हार्दिक बधाई

    बेटी को प्यार

    उत्तर देंहटाएं
  8. सुन्दर प्रस्तुति..नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं !

    उत्तर देंहटाएं
  9. .
    .
    .
    "खैर जब वह दिन ना रहे तो यह भी नही रहेंगे"
    सहमत!

    नव वर्ष की शुभकामनायें।


    ...

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत जानदार लेखनशैली है आपकी ।
    ब्‍लागजगत के आप रत्‍न सरीखे हैं ।

    संस्‍कृत की सेवा में हमारा साथ देने के लिये आप सादर आमंत्रित हैं,
    संस्‍कृतम्-भारतस्‍य जीवनम् पर आकर हमारा मार्गदर्शन करें व अपने
    सुझाव दें, और अगर हमारा प्रयास पसंद आये तो संस्‍कृत के लेख लिखकर संस्‍कृत के
    प्रसार में अपना योगदान भी दें ।

    उत्तर देंहटाएं

आप बताये क्या मैने ठीक लिखा