गुरुवार, जुलाई 08, 2010

ऐसा भी एक आज्ञाकारी पुत्र

आज्ञाकारी पुत्रो से इतिहास भरा है अपना . कुछ  ऐसे पुत्र है जो गुमनाम है .किस्से कहानियों में भी जिक्र नहीं हो पाता . ऐसे ही एक पिता पुत्र की कहानी है यह . कोई प्रमाण नहीं इसीलिए कहानी है वैसे हकीकत भी है यह .

रामलाल एक गाँव में रहता था .बहुत गुस्सैल स्वभाव का ,बिना बात के गाली देना उसका प्रिय शगल था . सुबह अपने घर के दरवाजे पर बैठ जाता और निकलने वालो को गाली देने लगता . लोग उससे नाराज़ रहते थे और उसे बुरा भला कहते थे . लेकिन रामलाल के डर के मारे उसके मुहं पर कोई कुछ नहीं कहता . पूरे इलाके में वह कुख्यात था वह . रामलाल बूढ़ा हो चला था . उसकी इच्छा थी कोई उसे भी अच्छा कहें . उसने  मरने के समय अपने पुत्र से वचन लिया वह उसका अंतिम संस्कार तब करे जब कोई उसे अच्छा कहें . और राम लाल मर गया .

पूरा गाँव खुश बबाल  कटा ठीक हुआ  रामलाल मरा . पुत्र के सामने समस्या आ खड़ी हुई कोई उसके बाप को अच्छा कहने वाला नहीं था जो कह दे बड़ा बुरा हुआ रामलाल मर गया कितना अच्छा आदमी था . एक दिन बीत गया बाप की कसम आड़े आ रही थी लाश बदबू छोड़ रही थी . लड़का परेशान क्या करे तभी उसे एक विचार आया . वह घर से निकला हाथ में लाठी जो सामने मिला उसे लठयाया . अफरातफरी मच गई . लोग इधर उधर भागने लगे और कहने लगे इससे अच्छा तो राम लाल था जो बिचारा सिर्फ गाली देता था उसका लड़का तो मारता है .

इस तरह लड़के ने अपने बाप की आख़िरी इच्छा पूरी की . अब सब रामलाल को अच्छा बता रहे थे .

इस आज्ञाकारी पुत्र को सम्मान मिलना चाहिए या नहीं . आप फैसला करे

11 टिप्‍पणियां:

  1. भारतीय नागरिक8 जुलाई 2010 को 9:18 pm

    अच्छा है.... रामलाल का पुत्र रामलाल से भी अच्छा है :)

    उत्तर देंहटाएं
  2. रामलाल का पुत्र तो रामलाल से भी अच्छा है :)

    उत्तर देंहटाएं
  3. जो अपने बाप की लाज बचा लिया वह खराब कैसे हो सकता है।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बाप बेटा दोनो ही अच्छे है जी, यह मै डर के मारे कह रहा हुं कही भुत बन के ...

    उत्तर देंहटाएं
  5. जब श्री राम पिता के वचनों का मान रखने के लिए बनवास जा सकते है तो इस बेटे ने भी अपने पिता के वचनों का ही तो मान रखा ! मेरी राय में यह गलत नहीं !

    उत्तर देंहटाएं
  6. उसे पदम श्री मिलना चाहिये..:)

    उत्तर देंहटाएं
  7. दोनो महान । रामलाल को इतने वर्षों की मेहनत पर विश्वास होने के कारण और पुत्र को उस विश्वास को सिद्ध करने के कारण ।

    उत्तर देंहटाएं
  8. दो जी सम्मान रामलाल को, या फ़िर उसका लठ छीन लो। दो में से एक काम तो करना ही होगा

    उत्तर देंहटाएं
  9. Achhee katha hai ... par mujhe lagta hai dono hi galat the ... pita fir se isliye jyada ganda ho gaya .. kyonki logon ne yeh bhi kaha ... kaisa aadmi tha itnamkharaab putr paida kiya ...

    उत्तर देंहटाएं

आप बताये क्या मैने ठीक लिखा