गुरुवार, जनवरी 05, 2012

बिना शीर्षक

मेरी एक तमन्ना थी की भाजपा ख़त्म हो जाए लेकिन इस तरह यह तो कभी सोचा ना था . भाजपा का पतन तो उसी समय शुरू हो चुका था जब बंगारू लक्ष्मण को वोटो की खातिर अध्यक्ष बनाया गया उसके बाद राजनाथ सिंह ने ढेर किया और ताबूत में आंखिरी कील ठोकने के लिए गडकरी है ही . 

वर्तमान में उत्तरप्रदेश में विधानसभा चुनाव में जो हो रहा है वह भाजपा के अंतिम संस्कार की तैयारी ही लगती है . सत्ता को पाने के लिए पहले से ही नाले में बदल गई यह गंगा<?> अब भी नाले और सीवर को आत्मसात कर रही है . धरातल विहीन नेता जो  भाजपा की ह्त्या करने में शामिल है आज भी बेशर्मी से बक बक कर रहे है . आज श्यामाप्रशाद मुखर्जी ,दीनदयाल उपाध्याय ,सुन्दर सिंह भंडारी ,कुशाभाऊ ठाकरे की आत्माए सिर्फ एक ही बात सोच  रही होगी की उन्होंने एसा क्या अनजान पाप किया जो उनकी मेहनत इस तरह बर्बाद हो गई . 

भाजपा की जहां जहां सरकारे रही है वह भ्रष्ट शासन  के नए नए रिकार्ड बना गई एक आध अपवाद हो सकता है . कलपना करते पर डर लगता है अगर कही यह ६० साल शासन कर लेते देश में तो भारत का नामोनिशान मिटा देते . 

यह लेख एक  दर्द है जो सही आकार नहीं ले पाया 

4 टिप्‍पणियां:

  1. ऐसे लोगों को शामिल करके बहुत बड़ी गलती की है.

    उत्तर देंहटाएं
  2. भारतीय नागरिक - Indian Citizen ने आपकी पोस्ट " बिना शीर्षक " पर एक टिप्पणी छोड़ी है:

    ऐसे लोगों को शामिल करके बहुत बड़ी गलती की है.

    उत्तर देंहटाएं
  3. तभी तो अन्ना हज़ारे ने कहा था- सब एक ही थैली के चट्टे-बट्टॆ हैं:( हमाम में सभी नंगे हैं... पर यह बहुत ही शर्मनाक हादसा है भाजपा के इतिहास में॥

    उत्तर देंहटाएं
  4. 'यह लेख एक दर्द है जो सही आकार नहीं ले पाया' - और यह दर्द उस विचारधारा के लिये है जो सत्ता सुख की लालसा के कारण आकार नहीं ले पाई :(

    उत्तर देंहटाएं

आप बताये क्या मैने ठीक लिखा