शुक्रवार, जून 05, 2015

आज फिर तुम पर प्यार आया है .....

सबकुछ तो नहीं बहुत कुछ खो कर बैठा हूँ . विस्थापित हुआ लेकिन लौटा तो उसी जगह जहाँ से चला था . दुनिया गोल है साबित हुआ . इन कुछ सालो में जिंदगी ने बहुत सबक दिए ,सबक ऐसे जो सिखा गए कि आगे क्या करना है क्या नहीं . 
किस्मत पर मुझे भरोसा न था लेकिन किस्मत ने ओ मुझे नचाया अब यकीन कर लिया किस्मत होती है . और हम कठपुतलिया है जिनकी डोर किसी और के हाथ में है . कह कुछ भी ले लेकिन हम से करवाया जाता है हम कुछ करते है यह हमारा भ्रम है . 

आज यहाँ आये है और कोशिश करूंगा रोज यहाँ आऊ . वैसे भी ब्लागिंग  के लिए कभी कहा गया था यह ठलुओ का काम है और आज मुझ से ज्यादा ठलुआ कोई नहीं . इसलिए अपना ठलुआ धर्म निभाऊंगा . 

1 टिप्पणी:


  1. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन, आज विश्व पर्यावरण दिवस है - ब्लॉग बुलेटिन , मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं

आप बताये क्या मैने ठीक लिखा