बुधवार, अक्तूबर 10, 2012

मैं जिन्दा हूँ

मैं जिन्दा हूँ . यह बात मैं जानता हूँ शायद मेरे ब्लॉग पर आने वाले समझ न बैठे की मैं कहीं मर तो नहीं गया इसलिए अपनी गलती सुधारने के लिए   नियमित अंतराल से फिर से ब्लॉग लिखने का निश्चय कर लिया है .और हाँ ब्लॉग के लिए कम से कम 1 घंटा जरूर दूंगा . आलस्य और   इंटरनेट के गलत इफेक्टो के कारन ब्लॉग से दूर होता चला उस ब्लॉग से जिसको मैंने बनाया और उस ब्लॉग ने मुझे पहचान दिलाई

एक नई पहचान जो मेरे भूत काल से बिलकुल अलग थी . जिस समय मैं अनजाने में ब्लॉग पर आया था उस समय मैं खानाबदोशो जैसा जीवन व्यतीत कर रहा था लेकिन आज एक कम्पनी को सही ढंग से चला रहा हूँ .वह भी कार बेचने वाली कम्पनी .

खैर आज से पुरानी बातो को भूलते हुए एक बार फिर से नई शुरुआत आपके आशीर्वाद के साथ चालू होचुकी है



5 टिप्‍पणियां:

  1. हमारी शुभकामनायें हमेशा की तरह आपके साथ है !



    विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस पर देश के नेताओं के लिए दुआ कीजिये - ब्लॉग बुलेटिन आज विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस पर पूरी ब्लॉग बुलेटिन टीम और पूरे ब्लॉग जगत की ओर से हम देश के नेताओं के लिए दुआ करते है ... आपकी यह पोस्ट भी इस प्रयास मे हमारा साथ दे रही है ... आपको सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  2. जय हो, आपके अनुभव बहुप्रतीक्षित थे।

    उत्तर देंहटाएं
  3. हमारे लिये आप हमेशा से मौजूद हैं। लंबे अतराल के बाद आये हैं तो यकीनन और भी अनुभवसिद्ध, अनुभवधनी होकर आये होंगे। निरंतरता के लिये शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं

आप बताये क्या मैने ठीक लिखा